HomeG.K / G.SVitamin क्या होता है, और Vitamin किस प्रकार कार्य करता है?|What is...

Vitamin क्या होता है, और Vitamin किस प्रकार कार्य करता है?|What is Vitamins and How Vitamins work?

नमस्कार पाठकों,

मित्रों कई बार जब हम Doctor के पास अपनी बीमारी का इलाज करवाने जाते हैं तो Doctor हमें कुछ दवाइयां लिखकर के देता है। और वह हमें यह भी कहता है कि आपके शरीर में Vitamin की कमी है या इस Protein की कमी है या फिर किसी प्रकार की कुछ तत्वों की कमी है। जिसके कारण आपको यह तकलीफ हो रही है। तब हम सोचते हैं कि यह Vitamin क्या होता है? यह किस प्रकार हमारे शरीर में आता है? यह किस प्रकार अपने आप ही ज्यादा या कम हो जाता है? हमें इसके बारे में कुछ ज्यादा जानकारी नहीं होती। लेकिन हमें उसके बारे में जानकारी होनी चाहिए।

मित्रों आज के इस लेख में हम आपको यह बताएंगे कि यह Vitamin क्या होता है। और Vitamin किस प्रकार कार्य करता है। इसके कितने प्रकार होते हैं। सभी प्रकारों में किस प्रकार के गुण होते हैं। और इससे संबंधित हम आपको वह सारी जानकारी देंगे, जो आपके लिए जानना आवश्यक है।

तो चलिए शुरू करते है।

Vitamin क्या होता है?

मित्रों Vitamin एक कार्बनिक पदार्थ होता है, जो खाद्य पदार्थ में बहुत ही कम मात्रा में उत्पन्न होता है। जिसके कारण यह हमारे खाद्य पदार्थों में ही पाया जाता है। हमारे शरीर में कुछ बीमारियों को दूर रखने के लिए और हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए, उतने ही कम Vitamin की आवश्यकता भी होती है। इसीलिए उस Vitamin को हम खाद्य पदार्थ द्वारा हमारे शरीर में प्रवेश करवाते हैं।

Vitamin एक प्रकार का कार्बनिक योगिक होता है जो कि हमारे शरीर के लिए एक आवश्यक तत्व भी है। यह हमारे शरीर का पोषण करता है। यह खाद्य पदार्थों में ही पाया जाता है।

Vitamin कितने प्रकार का होता है?

मित्रों Vitamin मुख्यतः 13 प्रकार के होता है। और आज के समय में मात्र 13 ही Vitamin ऐसे हैं जिन्हें मान्यता दी गई है। इन 13 प्रकार के Vitamin ओ को मुख्यतः दो भागों में बांटा गया है।

  1. पहला भाग वसा में घुलने वाला
  2. दूसरा भाग पानी में घुलने वाला

वसा में घुलने वाला Vitamin

मित्रों, Vitamin A, D, E और K वसा में घुलने मिलने वाले Vitamin होते हैं। यह Vitamin हमारे शरीर के वसा में में उपलब्ध होते हैं। और यह Vitamin हमारे शरीर में कुछ हफ्तों महीनों तक भी रह सकते हैं। और जब हमारे शरीर में से वसा की कमी होती है अर्थात हम जब कसरत करते हैं या फिर इसी प्रकार से अन्य कोई भारी-भरकम काम करते हैं, जिसमें हमें कई सारा पसीना आता है, तो उसका समय हमारे शरीर में वसा से संबंधित Vitamin की कुछ मात्रा में कमी हो जाती है।

पानी में घुलने वाले Vitamin

मित्रों, इस प्रकार Vitamin जो हमारे शरीर में या कहीं पर भी पानी के रूप में विद्यमान रहते हैं, वह Vitamin पानी में घुलने वाले Vitamin होते हैं। Vitamin C और Vitamin B यह Vitamin के प्रकार पानी में घुलने वाले होते हैं। ऐसे vitamin हमारे पेशाब के द्वारा बाहर चले जाते हैं।

सभी Vitamin के नाम उनके कार्य और उनकी कमी से होने वाले रोग

मित्रों आज के समय में 13 प्रकार के Vitamin ऐसे हैं जिन्हें विश्वभर में मान्यता दी गई है।

और उन 13 के नाम है- Vitamin A, Vitamin B(2-9) Vitamin B12, Vitamin C, Vitamin D, Vitamin E, Vitamin K, यह 13 प्रकार के Vitamin विश्व भर में मान्यता प्राप्त है।

Vitamin A

मित्रों Vitamin A का रासायनिक नाम लेकिन रेटिनॉल या रेटिनल पाया जाता है, यह वसा में पाया जाने वाला Vitamin होता है और हमारे लिए बहुत ही ज्यादा आवश्यक है। इस Vitamin की कमी से हमारे शरीर में केरटोमलेशिया, रतौंधी और इसी प्रकार की कुछ लोग हो जाते हैं, जो हमें हमारी नजरों को कमजोर करने में सहायक होते हैं।

Vitamin A के मुख्य स्रोत – Vitamin A के मुख्य स्रोत में लिवर, कॉड लिवर, आयल, गाजर, ब्रोकली, शकर कंद, मक्खन, पालक, कद्दू, अंडे, खुबानी, खरबूजा और दूध यह सब शामिल है।

Vitamin B1

मित्रों Vitamin B1 का रासायनिक नाम थायमिन होता है, और यह पानी में घुलने वाला एक Vitamin होता है, यह हमारे शरीर में एंजाइमों के उत्पादन में सहायक होता है, और हमारे शरीर में रक्त की शर्करा को तोड़ने में मदद करता है।

Vitamin B1 की कमी से बेरीबेरी या फिर कोर्साकॉफ़ सिंड्रोम हो सकता है।

Vitamin B1 के मुख्य स्रोत – मित्रों Vitamin B1 के मुख्य स्रोत में खमीर, सूअर का मांस, अनाज के दाने, सूरजमुखी का बीज, ब्राउन राइस, साबुत अनाज, राई और शतावरी के फल, केल, फूल गोभी, आलू, संतरे, जिगर और अंडे शामिल है।

Vitamin B2

Vitamin B2 का रासायनिक नाम राइबोफ्लेविन होता है।

मित्रों यह पानी में घुलने वाला एक Vitamin है, जो हमारे शरीर की कोशिकाओं की वृद्धि और इसके विकास के लिए जरूरी होता है। यह भोजन में मेटाबॉलिज्मबढ़ाने में मदद करता है।

मित्रों इस की कमी से हमारे होंठ सूख जाते हैं, या फिर मुंह में दरारें शामिल हो जाती है।

Vitamin B2 के अच्छे स्रोत में शतावरी, केला, खुरमा, भिंडी, चार्ड, पनीर, दूध, दही, मांस, अंडे, मछली, हरि बिन्स भी शामिल है।

Vitamin B3

Vitamin B का रासायनिक नाम नियासिन है और अक्सर इसे नियासिनैमाइड कहा जाता है। यह भी पानी में घुलने वाला एक Vitamin है। मित्रों यह Vitamin हमारे शरीर में कोशिकाओं को बढ़ाने और हमारे शरीर को सही ढंग से कार्य करने में मदद करने में सहायता करता है, और हमें हमारे शरीर को सही ढंग से कार्य करवाने के लिए Vitamin B3 की आवश्यकता होती है।

यदि हमारे शरीर में कभी Vitamin B3 की कमी हो जाती है तो हमें पेलाग्रा, नमक समस्या का सामना करना पड़ता है, जिसके परिणाम स्वरूप हमें दस्त लगने लगते हैं, त्वचा में थोड़ा बहुत परिवर्तन हो जाता है, और हमारी आँतों में गड़बड़ी होने लगती है।

Vitamin B3 के अच्छे स्रोत – Vitamin B3 के स्रोत में चिकन, टूना, सालमन, दूध, अंडे, टमाटर, पत्तेदार सब्जियां, ब्रोकली, गाजर, नट और बीज टोफू और दाल शामिल है।

Vitamin B5

मित्रों Vitamin B5 का रासायनिक नाम पैंटोथैनिक एसिड होता है। यह भी पानी में घुलनशील एक Vitamin का प्रकार होता है और यह हमारे शरीर में एनर्जी और हार्मोन को पैदा करने के लिए बहुत ही ज्यादा आवश्यक उत्पाद होता है। यदि कभी हमें हमारे शरीर में Vitamin B5 की कमी हो जाए तो हमें पेरेस्टेशिया नामक बीमारी हो जाती है। यह हमें मांस, साबुत अनाज, ब्रोकली और एवोकाडो तथा दही में बहुतायात की मात्रा में मिलता है।

Vitamin B6

मित्रों Vitamin B6 का रासायनिक नाम पैरीडोक्सीन होता है। इसे कई बार पाईरीडोक्सामाइन या फिर पाईरीडॉक्सल भी कहा जाता है।

मित्रों Vitamin B6 हमारे शरीर में पानी के एक स्वरूप में मौजूद होता है। और यह हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में बहुत ही बड़ी भूमिका निभाता है। और यदि हमें हमारे शरीर में Vitamin B6 की कमी होने लग जाए तो हमें खून की कमी और एनीमिया रोग हो सकता है इसके अलावा हमें न्यूरोपैथी भी हो सकती है।

यदि हमें इससे बचना है तो हमें छोले, केला, स्क्वैश या फिर नट्स खाना शुरू करना होगा, जो कि Vitamin B सिक्स के बहुत ही ज्यादा अच्छे स्रोत में शामिल है।

Vitamin B7

Vitamin B7 का रासायनिक नाम बायोटीन होता है।

बायोटीन भी हमारे शरीर में पानी के स्वरूप के रूप में विद्यमान होता है और यह हमारे शरीर को प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट को पचाने के लिए सक्षम बनाता है। यह हमारे शरीर में कैरोटीन के निर्माण में भी योगदान देता है, जो कि हमारे शरीर में त्वचा, बालों और नाखूनों की संरचनात्मक प्रोटीन के लिए आवश्यक होती है।

अब हम इसे समझ सकते हैं कि यदि इसकी कमी हमारे शरीर में हो तो हमारी आंखों में जल्दी सूजन आ सकती है, हमारे नाखून सूखने लग सकते हैं, हमारे बाल झड़ने लग सकते हैं। और हमें हमारे आंतों में सूजन का सामना करना पड़ सकता है।

यदि हमें हमारे शरीर में Vitamin B7 की कमी से बचना है तो हमें अंडे की जर्दी, लीवर, ब्रोकली, पालक और पनीर को हमारे खाने में शामिल करना होगा।

Vitamin B9

मित्रों Vitamin B9 का रासायनिक नाम फोलिक एसिड भी होता है। फोलिक एसिड भी हमारे शरीर में पानी के रूप में घुलकर रहता है और यह हमारे शरीर में DNA और RNA को बनाने में बहुत ही ज्यादा बड़ी भूमिका निभाता है।

यदि कभी हमें Vitamin B9 की कमी हो जाए तो यह औरतों में गर्भावस्था के समय भ्रूण के तंत्रिका तंत्र को बहुत ही बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है। जब भी कभी किसी महिला को गर्भ धारण करना होता है तो Doctor उन्हें फोलिक एसिड की एक अच्छी खुराक लेने की सलाह देते हैं, जो कि उन्हें उनके भ्रूण और बच्चे को भी मजबूत और ताकतवर बनाता है।

यदि आप चाहते कि आपके शरीर में कभी भी Vitamin B9 की कमी ना हो तो आपको पत्तेदार सब्जियां, मटर फलियां और लीवर, अनाज, सूरजमुखी के बीज और कुछ मीठे फलों को अपने खाने में शामिल करना होगा।

Vitamin B12

मित्रों, Vitamin B12 का रासायनिक नाम साइनोकोबालामिन है, और यह कई बार हाइड्रोक्सोकोबालामिन या फिर मिथाइलकोबालामिन के नाम से जाना जाता है।

यह भी हमारे शरीर में पानी के स्वरूप के रूप में विद्यमान रहता है। और यह हमारे शरीर में तंत्रिका तंत्र को स्वस्थ रखने में काम करता है।

यदि हमें कभी Vitamin B12 की कमी हो जाए तो हमें एनीमिया या फिर तंत्रिका तंत्र के संबंधित कुछ समस्याएं पैदा हो सकती है।

यदि हमें Vitamin B12 की कमी को दूर करना है तो हमें हमारे खाने में मछली, शंख, मास, मुर्गी, अंडे, दूध, डेयरी के उत्पाद शामिल करने होंगे।

Vitamin C

Vitamin C का रासायनिक नाम एस्कोरबिक एसिड होता है। और यह भी पानी में खुलने वाला Vitamin होता है। यह हमारे शरीर में कॉलेजन के उत्पादन, घाव को भरने, हड्डियों के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान देता है। यह रक्त महिलाओं को मजबूत रखने में अपना योगदान देता है। और हमारे शरीर में आयरन को अवशोषित करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देता है। और हम दूसरी भाषा में समझे तो यह एक प्रकार का एक एंटीऑक्सीडेंट होता है।

मित्रों यदि कभी हमें Vitamin C की कमी हो जाए तो यह हमें भयानक परिणाम दिखा सकता है। जैसे कि हमें इस कर भी रोग हो सकता है, मसूड़ों से खून बहने का, दांतों में हानि होने का और हमारे शरीर में कोशिकाओं के निर्माण का घाव को भरने का और खराब उत्तको के विकास का सभी का क्रम बिगड़ सकता है।

यदि हम चाहते कि हमारे शरीर में कभी Vitamin C की कमी ना हो तो इसके लिए हमें हमेशा फल और सब्जियां हमारे खाने में शामिल करना चाहिए। और खाने को पका कर खाने से Vitamin C नष्ट हो जाता है।

Vitamin D

मित्रों Vitamin D का रासायनिक नाम एग्रोकेल्सीफेरोल होता है और इसे कई बार कॉलेकैल्सिफेरॉल के नाम से भी जाना जाता है। यह भाषा में खुलने वाला एक Vitamin होता है, जो हड्डियों खनिजकरण में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है। और Vitamin D की कमी से हमारे शरीर में रिकेट्स या अस्थिमृदुता या फिर हड्डियों के नरम हो जाने का रोग पैदा हो सकता है।

Vitamin D के कई सारी अच्छी स्रोत हमें मिलते हैं जैसे कि सूर्य की किरणें, मछली, अंडे, मशरूम इत्यादि।

Vitamin E

Vitamin E का रासायनिक नाम टोकोफेरोल होता है, और अधिकतर टोकॉट्रिएनॉल के नाम से जाना जाता है। यह vitamin वसा में घुलकर रहने वाला Vitamin होता है। और हमारे शरीर में एंटी-ऑक्सीडेंट की गतिविधियों को संभालने में मदद करता है। यह Vitamin हमारे शरीर में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करता है, जिसके कारण हमारे शहर में विभिन्न प्रकार की खतरनाक बीमारियां पैदा हो सकती है। यह Vitamin बड़ा ही दुर्लभ होता है और इस Vitamin की कमी से हमारे शरीर में एनीमिया रोग हो सकता है, अधिकतर रूप में Vitamin की कमी नवजात शिशु में पाई जाती है।

यदि हम चाहते हैं कि हमारे शरीर में Vitamin E की कमी ना हो तो हमें गेहूं के बीज, कीवी, अंडे बादाम, पत्तेदार साग, वनस्पति का तेल हमारे खाने में शामिल करना चाहिए।

Vitamin K

मित्रों Vitamin K का रासायनिक नाम फाइलोक्विनोन और मेनाक्विनोन होता है। यह हमारे शरीर में रक्त के थक्के बनाने के लिए आवश्यक होता है, जो कि हमें किसी भी प्रकार के चोटिल अवस्था में खून को भी जाने पर उस वक्त रक्तस्राव को रोकने में मदद करता है।

Vitamin K की कमी से हमारे शरीर में रक्तस्राव रुकना खत्म हो जाता है। यदि हमें कोई छोटी सी भी चोट लगती है तो उसमें से खून बहता रहता है, और खून का थक्का नहीं जमता। यह जानलेवा और खतरनाक बीमारी है। यदि हम चाहते हैं कि हमारे शरीर में Vitamin K की कमी ना हो तो हमें पत्तेदार साग, काजू, अंजीर और अजमोद को अपने खाने में शामिल करना चाहिए।

Vitamin की कमी का पता कैसे करें

मित्रों, जब हमारे शरीर में किसी भी प्रकार की Vitamin की कमी होती है तो हमारे शरीर में कुछ परीलक्षण दिखने लगते हैं। जिसके कारण हमारे शरीर में हमें सामान्य प्रक्रिया से अलग कुछ विभिन्न लक्षण दिखते हैं। जो कि हमें पसंद नहीं आते। हमें कुछ विभिन्न प्रकार के रोग हमारे शरीर में देखने को मिल सकते हैं।

इसीलिए यदि हमें किसी प्रकार की असामान्य गतिविधि हमारे शरीर में दिखती है। तो हमें तुरंत Doctor के पास जाना चाहिए। ताकि उनके सहायता से, शरीर में किसी भी प्रकार की Vitamin की कमी को दूर करने के उपायों के बारे में सं सम्बंधित जानकारी ले सके। Doctor आपको खाद्य पदार्थों के साथ-साथ Vitamin की गोलियों का प्रिसक्रिप्शन भी दे देंगे, जो आपके लिए बहुत ही लाभदायक होगा।

आपको किसी भी प्रकार की Vitamin की बढ़ोतरी करने के लिए अपने मन से किसी भी प्रकार की दवा का सेवन नहीं करना चाहिए। लेकिन सामान्य आहार के रूप में आप अपने खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते है।

निष्कर्ष

तो मित्रो आज के लिए हमने जाना कि Vitamin क्या होते हैं, Vitamin की कमी से कौन से रोग उत्पन्न हो सकते हैं। Vitamin किस प्रकार के खाद्य पदार्थों में उपस्थित मिलते हैं, और Vitamin की कमी होने पर हमें क्या करना चाहिए। आज के लिए हमने आपको Vitamin से संबंधित सारी जानकारी प्रदान करी। हम आशा करते हैं कि आपको ये लेख पसंद आया होगा। यदि आपको पसंद आए तो कृपया इस लेख को ज्यादा शेयर करें।

धन्यवाद

अन्य पोस्ट पढ़े-

Resume और CV में क्या अंतर है
प्राइवेट बैंक में जॉब केसे ले हिंदी में बिस्तर से जाने?
मुरा – द्रवा – डेन्यूब बायोस्फीयर रिज़र्व कहाँ है
Important facts about Ganga river in Hindi
डीएनए (DNA), RNA क्या होता है
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular