HomeCAREERकंपनी सेक्रेटरी क्या होता है? | Company Secretary Kaise Bane? | CS...

कंपनी सेक्रेटरी क्या होता है? | Company Secretary Kaise Bane? | CS Course in Hindi

कंपनी सेक्रेटरी को शॉर्ट में CS बालते है। इसका पूरा नाम – Company Secretary होता है। कंपनी सेक्रेटरी (Company Secretary) एक निदेशक मंडल का सदस्य होता है जो कंपनी के नियमों और नियमक आदेशों के लिए जिम्मेदार होता है। उनकी प्रमुख भूमिका कंपनी के लिए नियमों का निर्माण, संशोधन, अनुसंधान और सुनिश्चित करना होता है कि कंपनी का काम कानूनी तौर पर चल रहा हो। उन्हें कंपनी के सभी निदेशकों के लिए सलाह देना भी होता है ताकि वे कंपनी के लिए उचित निर्णय ले सकें।

Company Secretary
Company Secretary

कंपनी सचिव एक व्यवस्थापक भूमिका होती है जो कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स और विभिन्न विभागों के बीच एक संबंध स्थापित करता है। उन्हें कंपनी की सुचारू व्यवस्था की जिम्मेदारी भी सौंपी जाती है। वे कंपनी के स्टैट्यूटरी रिकॉर्ड्स और डॉक्यूमेंटेशन को भी लेकर जिम्मेदार होते हैं जिसमें कंपनी के आधार पंजीकरण, मीटिंग की जानकारी, निदेशकों और शेयरहोल्डरों की जानकारी आदि शामिल होती है।

कंपनी सेक्रेटरी (CS) क्या होता है? (Company Secretary In Hindi)

कंपनी सेक्रेटरी एक पेशेवर होता है जो कंपनी के कानूनी और प्रशासनिक कार्यों को संचालित करने में मदद करता है। यह व्यक्ति कंपनी के सदस्यों और निदेशकों के साथ काम करता है और सुनिश्चित करता है कि कंपनी नियमों और नियमकानूनों का पालन करती है।

कंपनी सेक्रेटरी द्वारा किये जाने वाले कार्यों में निम्नलिखित शामिल होते हैं:

  1. कंपनी विधि का पालन करना: कंपनी सेक्रेटरी को सुनिश्चित करना होता है कि कंपनी नियमों, विधियों और नियमकानूनों का पालन करती है। उन्हें नई नियमों का अध्ययन करना, संशोधन करना और नए नियमों को कंपनी में लागू करना होता है।
  2. निदेशक समूह और सदस्यों का संचालन करना: कंपनी सेक्रेटरी को सुनिश्चित करना होता है कि निदेशक समूह और सदस्यों के बीच संचालन में कोई अंतर्निहित समस्या नहीं होती है। वे बोर्ड और समितियों के बैठकों के आयोजन, प्रबंधन और लेखांकन को संचालित करते हैं।
  3. दस्तावेज़ों का प्रबंधन करना: कंपनी सेक्रेटरी को कंपनी के सभी दस्तावेज़ों को संचालित करना होता है। वे कंपनी के दस्तावेज़ों को रखते हैं, जिनमें शामिल होते हैं जैसे मिनट बुक, नियम पुस्तक, देय खातों की रक्षा, स्टॉक रजिस्टर, समिति और बोर्ड के बैठकों की रिकॉर्ड, सूची आदि।
  4. कंपनी के संचालन के लिए विभिन्न विभागों में समन्वय सुनिश्चित करना: कंपनी सेक्रेटरी विभिन्न विभागों के साथ समन्वय सुनिश्चित करते हुए कंपनी के संचालन के लिए अच्छी तरह से तैयार होते हैं। वे निवेशकों, बैंकों और अन्य स्थानों से कंपनी के लिए वित्तीय संसाधनों का आवंटन करते हैं और कंपनी के सार्वजनिक संचार संबंधी अधिसूचनाएं जारी करते हैं।
  5. कंपनी के निवेशकों के साथ संवाद करना: कंपनी सेक्रेटरी को कंपनी के निवेशकों के साथ संवाद करना होता है। वे कंपनी के विभिन्न पहलुओं के बारे में निवेशकों को सूचित करते हैं और उन्हें संबंधित कारोबार के निर्णयों के बारे में सूचित करते हैं।

कंपनी सेक्रेटरी बनने के लिए क्या करे?

कंपनी सेक्रेटरी (Company Secretary) बनने के लिए क्लास 10+2 किसी भी स्ट्रीम में पास होना अनिवार्य है, उसके बाद आप एलिजबल हो जाते है कंपनी सेक्रेटरी (CS) इग्ज़ैम में बैठने के लिए। 12वी कक्षा पास करने के बाद आप ICSI की ऑफिसियल वेबसाईट पर जाकर कंपनी सेक्रेटरी (CS) का फोरम फिल कर सकते है उसके बाद आपको कंपनी सेक्रेटरी (CS) का इग्ज़ैम देना होगा। यह इग्ज़ैम तीन फेज में होगा

  1. FOUNDATION COURSE
  2. EXECUTIVE COURSE
  3. PROFESSIONAL COURSE

Company Secretary के लिए qualification?

कंपनी सेक्रेटरी (CS) व्यवसाय की विभिन्न क्षेत्रों में कानूनी, वित्तीय और प्रशासनिक गतिविधियों को सुचारू रूप से संचालित करने की जिम्मेदारी लेते हैं। कंपनी सेक्रेटरी बनने के लिए क्या योग्यता आवश्यक हैं? आइए इस पर एक नज़र डालें।

कंपनी सेक्रेटरी बनने का पहला कदम भारतीय कंपनी सेक्रेटरी संस्थान (ICSI) द्वारा प्रदान की गई Company Secretary कार्यक्रम को पूरा करना होता है। CS कार्यक्रम को तीन स्तरों में विभाजित किया गया है: Foundation, Executive और Professional। हम इन स्तरों पर एक नज़र डालेंगे।

  1. CS Foundation: CS Foundation स्तर कंपनी सेक्रेटरी बनने के लिए पहला कदम है। यह एक वर्ष का कोर्स है जिसे उन छात्रों द्वारा पूरा किया जा सकता है जो अपनी 10+2 या समतुल्य परीक्षा पूरी कर चुके हैं। Company Secretary Foundation कोर्स व्यवसाय पर्यावरण और उद्यमिता, व्यवसाय प्रबंधन, नैतिकता और संचार, अर्थशास्त्र और लेखा एवं लेखापरीक्षण के मूल सिद्धांतों को शामिल करता है।
  2. CS Executive: CS Executive स्तर Company Secretary कार्यक्रम का दूसरा स्तर है। उन छात्रों के लिए होता है जो CS Foundation परीक्षा में सफलता प्राप्त करते हैं या उनकी समतुल्य परीक्षा उत्तीर्ण होती है। इस कोर्स का अवधि 9 महीने होती है। CS Executive कोर्स दूसरे स्तर पर उच्च स्तर के विषयों को शामिल करता है, जैसे कि कंपनी कानून, वित्तीय लेखांकन, कंपनी नियोजन, विनिमय नियम, अधिसूचना, प्रबंधन और आवश्यकता अनुसार अन्य विषय।
  3. CS Professional: CS Professional स्तर कंपनी सेक्रेटरी का अंतिम स्तर होता है। इस स्तर को पूरा करने के बाद छात्र Company Secretary के विभिन्न क्षेत्रों में उन्नत रूप से काम करने के लिए योग्य होते हैं। इस कोर्स का अवधि 10 महीने होती है। यह कोर्स व्यवसाय नियम, निगम विधि, संचार, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, लेखांकन एवं लेखापरीक्षण, प्रबंधन ज्ञान, सामान्य और विशेष विषयों को शामिल करता है।

इस प्रकार, CS कोर्स के तीन स्तर होते हैं जिन्हें पूरा करने के बाद छात्रों को एक स्थिर वित्तीय और प्रशासनिक करियर बनाने में मदद मिलती है।

Company Secretary कोर्स सिलेबस

कंपनी सेक्रेटरी कोर्स का सिलेबस विभिन्न अध्यायों से मिलकर बनाया गया है जो कंपनी सेक्रेटरी के पद के लिए आवश्यक होते हैं। आइये इस सिलेबस के बारे में विस्तार से जानते हैं:

CS Foundation सिलेबस:

  • बिज़नेस एथिक्स और गवर्नेंस
  • बिज़नेस में मौजूदा स्थिति
  • बिज़नेस में बुनियादी संरचना
  • बिज़नेस में लाभ और वित्तीय प्रबंधन
  • बिज़नेस में कंपनी कानून और संबंधित मामले

CS Executive सिलेबस:

Module I:

  • ओपन सोर्स स्ट्रेटेजी
  • संस्थागत नियोजन
  • संचालन एवं प्रबंधन
  • आयकर और वित्तीय प्रबंधन

Module II:

  • स्थानीय निकायों के लिए विनिमय
  • विनिमय अधिनियम
  • साझेदारी नियोजन
  • जंग और गठबंधन अधिनियम

CS Professional सिलेबस:

Module I:

  • कंपनी विधिक के विभिन्न विषय
  • निवेश बैंकिंग एवं फाइनेंस सर्विसेज
  • निगमों के लिए संचालन और प्रबंधन
  • सरकारी निकायों में कार्य
  • बाहरी सलाह

अगर इससे संबंधित और जानकारी चाहिए तो कमेन्ट करके पूछ सकते है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular