HomeNEW UPDATEChandrayaan-3: 2023 में फिर से होंगे भारत के कदम चांद पर

Chandrayaan-3: 2023 में फिर से होंगे भारत के कदम चांद पर

Chandrayaan-3: साल 2019 सितंबर महीना और रविवार का दिन , इस दिन प्रात काल ही हमारे प्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी बेंगलुरु में स्थित ISRO मुख्यालय पहुंच गए थे. जाने का कारण था chandrayaan-2 जोकि चंद्रमा की सतह पर उतरने ही वाला था परंतु किसी कारणवश विज्ञानिको का संपर्क लैंडर विक्रम से टूट गया | परिणाम स्वरूप भारत का chandrayaan-2 मिशन अधूरा रह गया. कष्ट की बात तो यह है मून मिशन चंद्रमा की सतह से सिर्फ 2.1 किलोमीटर की दूरी पर था. संपर्क टूट जाने के कारण chandrayaan-2 का 47 दिनों का सफर असफल हो गया | इसी बीच हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने इसरो के सभी वैज्ञानिकों की हिम्मत बंधाई लेकिन इसरो के अध्यक्ष के. शिवन अपने आंसू नहीं थाम पाए.

भारत देश दुनिया में तेजी से विकास कर रहा है और विभिन्न क्षेत्रों में उद्योग विकास के साथ-साथ विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र में भी नए उपलब्धियों को हासिल कर रहा है। नमस्ते दोस्तों आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको chandrayaan-3 मिशन मून से जुड़ी सभी जानकारी देंगे.

चंद्रयान 3 मिशन के बारे में

इस मिशन का मुख्य उद्देश्य चंद्रमा की सतह का गहराई से अध्ययन करना है. इस मिशन के दौरान ISRO कुछ सैंपल लेने का प्रयास करेगा. मिशन चंद्रयान 3 भारत का चांद पर जाने का तीसरा प्रयास होगा. मिशन के दौरान वैज्ञानिकों का पूरा ध्यान रोवर को चांद की सतह पर सफलता पूर्वक उतारना होगा

Chandrayaan-3 भारत के पिछले दो असफल प्रयासों के बाद एक और कोशिश है चंद्रयान 1 मिशन 2008 में लांच किया गया था इस मिशन के दौरान चंद्रयान-1 ने सफलतापूर्वक चंद्रमा की परिक्रमा की थी और चंद्रयान 2 मिशन साल 2019 में लांच किया गया था इस मिशन का उद्देश्य चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर रोवरको लैंड करवाना था हालांकि मिशन पूरी तरह सफल नहीं हो पाया था क्योंकि अंतिम समय में लेंडर का संपर्क ग्राउंड स्टेशन से पूरी तरह टूट गया था

उम्मीद है इस मिशन के दौरान इसरो पिछले मिशन की कमियों को दूर करने का प्रयास करेगा और सफलतापूर्वक रोवर की लैंडिंग चंद्रमा पर होगी | आपकी जानकारी के लिए बता दें की इस मिशन को 2020 में लांच करने की योजना बनाई गई थी लेकिन कोविड-19 महामारी और तकनीकी मुश्किलों के कारण इसे अब लांच किया जा रहा है

Chandrayaan-3 मिशन में एक लैंडर और एक रोवर शामिल होगा जिससे जिओसिकोनस सेटेलाइट लॉन्च व्हीकल जीएसएलवी (GSLV) मार्क 3 रॉकेट पर एक साथ लांच किया जाएगा. रोवर वैज्ञानिक उपकरणों की मदद से चंद्रमा की सतह के आंकड़े एकत्र करेगा.

तकनीकी प्रगति के क्षेत्र में chandrayaan-3 काफी महत्वपूर्ण मिशन माना जा रहा है. इस मिशन के दौरान काफी सारी एडवांस तकनीकों का उपयोग किया जाएगा जैसे कि ट्रेन मैप इन कैमरा 3, लेजर प्रेरित ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कॉपी और अल्फा करण एक्सरे स्पेक्ट्रोमीटर.

भारत अपनी खूबियों से भरपूर है। भारत ने हमेशा ही आगे बढ़ने के लिए कोशिश की है और अपने संसाधनों का उपयोग कर विभिन्न क्षेत्रों में उच्च उपलब्धियों को हासिल किया है। भारत का सपना हमेशा से ही चाँद पर पहुंचने का रहा है। चंद्रयान-1 और चंद्रयान-2 मिशन के बाद, भारत अब चंद्रयान-3 मिशन के लिए तैयारी कर रहा है। चंद्रयान-3 मिशन, भारत के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा, जो उम्मीद है, कि चाँद पर पहुंचने में सफल होगा।

खलीस्थान का इतिहास? जानिए खालिस्तान की मांग

क्यों चर्चा में है चंद्रयान 3? (Why Chandrayaan 3 is in discussion)

चंद्रयान -3 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के चंद्रयान कार्यक्रम में तीसरा मिशन है, जिसका उद्देश्य चंद्रमा का पता लगाना है। यह बातचीत में है क्योंकि यह एक उच्च प्रत्याशित मिशन है जो पिछले चंद्रयान -1 और चंद्रयान -2 मिशनों की सफलताओं पर आधारित होगा।

चंद्रयान -3 को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र की खोज के लक्ष्य के साथ एक लैंडर-रोवर मिशन बनाने की योजना है। यह क्षेत्र विशेष रुचि का है क्योंकि यह माना जाता है कि इसमें पानी की बर्फ है, जो संभावित रूप से चंद्रमा के लिए भविष्य के मानव मिशनों के लिए एक संसाधन के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

कुल मिलाकर, चंद्रयान -3 बातचीत में रहा है क्योंकि यह भारत के अंतरिक्ष अन्वेषण कार्यक्रम में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करता है और इसमें चंद्रमा की संरचना और इतिहास में मूल्यवान नई अंतर्दृष्टि प्रदान करने की क्षमता है।

Chandrayaan-3 लॉन्च की तारीख?

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के चंद्रयान कार्यक्रम के तीसरे मिशन चंद्रयान-3 के लॉन्च की तारीख अभी तक आधिकारिक रूप से घोषित नहीं की गई है। हालाँकि, इसरो के नवीनतम अपडेट बताते हैं कि मिशन को 2023 की दूसरी छमाही में लॉन्च करने का लक्ष्य रखा गया है।

Chandrayaan
Chandrayaan-3

यह ध्यान देने योग्य है कि तकनीकी मुद्दों, मौसम की स्थिति और अन्य अप्रत्याशित परिस्थितियों सहित विभिन्न कारकों के कारण लॉन्च की तारीख बदल सकती है। जैसे-जैसे लॉन्च नज़दीक आएगा, इसरो लॉन्च की तारीख और अन्य मिशन विवरण के बारे में अधिक जानकारी प्रदान करेगा, इसलिए अपडेट के लिए उनकी आधिकारिक वेबसाइट और सोशल मीडिया चैनलों पर नज़र रखना उचित है।

चंद्रयान लॉन्च करने के स्थान

चंद्रयान मिशन का प्रक्षेपण आमतौर पर भारत के आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र (SDSC) से किया जाता है। SDSC इसरो द्वारा संचालित एक रॉकेट लॉन्च साइट है और भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए प्राथमिक स्पेसपोर्ट है।

SDSC विभिन्न प्रकार के लॉन्च वाहनों के लिए कई लॉन्च पैड और सुविधाएं प्रदान करता है, जिसमें पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (PSLV) और जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (GSLV) रॉकेट शामिल हैं, जिनका उपयोग चंद्रयान मिशन को लॉन्च करने के लिए किया जाता है।

लॉन्च साइट का चुनाव किसी भी अंतरिक्ष मिशन के लिए एक महत्वपूर्ण विचार है, क्योंकि लॉन्च वाहन का समर्थन करने और एक सुरक्षित और सफल लॉन्च सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त बुनियादी ढांचे और लॉन्च सुविधाओं की आवश्यकता होती है। एसडीएससी चंद्रयान-1 और चंद्रयान-2 मिशन सहित इसरो के अंतरिक्ष अभियानों के लिए एक विश्वसनीय प्रक्षेपण स्थल साबित हुआ है।

सारांश – Chandrayaan-3

भारत के पिछले चंद्र मिशनों की सफलताओं के आधार पर, Chandrayaan-3 निकट भविष्य में अपना बहुप्रतीक्षित प्रक्षेपण करने के लिए तैयार है। चंद्रयान कार्यक्रम में तीसरे मिशन का उद्देश्य चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र का पता लगाना और इसकी संरचना और इतिहास के बारे में हमारी समझ को आगे बढ़ाना है। चंद्रमा की सतह पर एक रोवर उतारने के लक्ष्य के साथ, चंद्रयान -3 से सफल अंतरिक्ष अन्वेषण मिशनों के भारत के प्रभावशाली ट्रैक रिकॉर्ड को जारी रखने की उम्मीद है। चंद्रयान-3 के प्रक्षेपण और इससे होने वाली रोमांचक खोजों के बारे में अधिक अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहें।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular