HomeG.K / G.Sडीएनए (DNA), RNA क्या होता है?|DNA Testing Kya hai ?|Difference between DNA...

डीएनए (DNA), RNA क्या होता है?|DNA Testing Kya hai ?|Difference between DNA and RNA in Hindi ?

DNA- (डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड) अणुओं का समुह है। जो अनुवांशिक जानकारी को माता-पिता से संतानों में हस्तांतरित करता है। डी.एन.ए एक लंबा अणु है। जिसमें व्यक्ति का अनुवांशिक कोड होता है। यह हमारे शरीर को काम करने के लिए जरुरी प्रोटीन का निर्माण करने के लिए निर्देश देता है। डी.एन.ए अणु की संरचना सीढ़ी की तरह होती है। डीएनए का एक अणु चार अलग-अलग वस्तुओं से बना होता है। जिन्हें न्यूक्लियोटाइड कहते हैं।

RNA क्या होता है ?

आर एन ए का पूरा नाम (राइबो न्यूक्लिक एसिड) है। आर एन ए न्यूक्लियोटाइड एक लंबी श्रृंखला तंतु है । जो अनुवांशिक कोड को न्यूक्लियस से राइबोसोम में प्रोटीन बनाने के काम आता है। तथा डीएनए के आदेशों को पुरा करने में लगा रहता है। यह हमारे शरीर में उपस्थित जीन की काॅपी करने में सक्षम है।

DNA और RNA में अंतर?

DNA और RNA में अंतर निम्न है।

1- DNA में ( Deoxyribose) शर्करा होती है। RNA में ( Ribose) शर्करा होती है।

2- डीएनए मुख्य रुप से केंद्रक में पाया जाता है । आर एन ए दोनों में पाया जाता हैं। केंद्र और कोशिका द्रव्य दोनों में पाया जाता है।

3- DNA के पास Adenine, Guanine, Thymine, Cytosine पाया जाता है। RNA में Thymine की जगह Urail पाया जाता है।

4- डीएनए सूचना ले जाने वाला अणु होता है। यह सूचना संग्रह करने के काम में लगा रहता है। RNA प्रोटीन संश्लेषण का काम करता है। आर .एन. ए के रूप में डी.एन.ए में संग्रहित क्रम के अनुरूप अमीनो एसिड के क्रम के साथ राइबोसोम द्वारा प्रोटीन संश्लेषण प्रदान करता है।

5- डी.एन.ए अणुओं को जमा करने का काम करता है। जिन्हें प्रोटीन कहते हैं। जो प्रत्येक कोशिका केंद्रक के अंदर गुणसूत्रों में संग्रहित करते हैं। जबकि RNA आनुवांशिक कोड को न्यूक्लियस से राइबोसोम में प्रोटीन बनाने के लिए डीएनए से प्राप्त दिशा निर्देशों को ले जाने के काम में लगे रहते हैं।

DNA का काम क्या होता है?

1- इसके माध्यम से पीढ़ी दर पीढ़ी होने वाले परिवर्तन का पता लगाया जा सकता है।

2- कोशिकाओं में सूचनाओं को लंबे समय तक सुरक्षित रखा जाता है । यह डीएनए के द्वारा ही होता है। इन सूचनाओं का प्रयोग करके कई रहस्यों का पता लगाया जा सकता है।

3- अनुवांशिक सूचनाओं को एकत्रित करता हैं DNA, इसे ही हम जीन कहते हैं और इससे ही अनुवांशिक जानकारी प्राप्त होती है।

RNA का काम क्या होता है?

1- RNA हमारे शरीर में डीएनए के जीन्स की copy करके बडी पैमाने पर प्रभावित करने का काम करता रहता है । साथ ही यह अनुवांशिक सामग्री कोशिकाओं को पहुंचाने में सहायक होता है।

2- RNA कोशिकाओं के अंदर की प्रणाली में कौन-कौन से जींस सक्रिय हैं। उन को नियंत्रित करने का काम करता है। तथा अणुओं के दो छोटे प्रकार माइक्रो RNA और बड़े हस्तक्षेप करने वाले RNA हस्तक्षेप के केंद्र में होते हैं। जो प्रत्येक RNA के जीन के प्रत्यक्ष होते हैं।

3- RNA बड़े पैमाने के स्क्रीन के लिए भी उपयोग में लाया जाता है और जीव को कोशिकाओं में बंद कर लेता है।

DNA टेस्टिंग क्या है?

डीएनए टेस्ट का नाम सुनते ही दिमाग में यह घूमने लगता है। कि किसी ने कोई अपराध थोड़ी किया है कि डीएनए टेस्ट करना है। जब भी किसी व्यक्ति के उसके अपने संतान होने में संदेह उत्पन्न होता है। तब भी DNA टेस्ट कराने की बात आती है कि अमुक संतान उसका है या नहीं है। डीएनए रिपोर्ट में मिली जानकारी एकदम सटीक और सही होती है।

डीएनए शरीर का इंस्ट्रक्शन मैन्युअल की तरह होता है। डीएनए में जैसा लिखा होगा शरीर वैसा ही बनेगा, इसी से इंस्ट्रक्शन मैन्युअल डिसाईड होता है। कि आंखों, बालों और शरीर का रंग कैसा होगा, मसल्स कैसे होंगे, व्यक्ति की लंबाई, चौड़ाई कितनी होगी, रंग कैसा होगा, हमारे शरीर में प्रोटीन का एक स्ट्रक्चर होता है। जो कि अलग होता है। मतलब यह दूसरे के पास नहीं होता है। बस उसका कुछ हिस्सा हमारे रिश्तेदारों या खून से मिलता जुलता है। DNA टेस्टिंग से कयी गोपनीय जानकारी का पता चलता है ।

DNA टेस्ट कब कराया जाता हैं?

1- माता पिता से कोई बीमारी संतान को मिल गई हो तो उस बिमारी का पता लगाने के लिए।

2- किसी भी अपराध की जांच करने के लिए घटनास्थल पर मिले जैविक हिस्सा (जैसे:- बाल, नाखून, वीर्य, खून, निशान) आदि।

3- कोई व्यक्ति जैविक बीमारी का कैरियर वाहक है या नहीं अर्थात माता-पिता से कोई बीमारी बच्चे को जाएगी या नहीं यह पता लगाने के लिए।

4- खून का रिश्ता है या नहीं यह पता लगाने के लिये।

5- किसी व्यक्ति को कौन सी बीमारी होने की संभावना हो सकती है यह पता लगाने के लिए।

DNA टेस्ट कैसे और कहाँ होता है?

1- DNA टेस्ट सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कराया जाता है। आपराधिक मामलों में सरकारी अस्पतालों में जांच मान्य होता है।

2- टेस्टिंग के लिये मुंह में गालों के भीतर की तरफ एक स्वाब ( रूई लगी लकड़ी ) को अच्छी तरह रगड़ कर लेते हैं।

3- प्रिक फिट के माध्यम से भी सैंपल लिया जाता है।

4- अपराधिक मामले में सैंपल सक्षम अधिकारी के सामने लिया जाता है।

F A Q

Q1- DNA को‌ पहली बार किसने देखा था?

Ans- DNA को पहली बार काल्सवर्ग ने देखा था।

Q2- DNA के खोजकर्ता कौन है?

Ans- DNA के खोजकर्ता वाट्सन है।

Q3- DNA की संरचना कैसी होती है?

Ans- DNA की संरचना जीवित कोशिका के केंद्रक में गुणसूत्र होता है। तथा यह माइट्रोकांड्रिया मे भी कुछ मात्रा में पाया जाता है। इसकी संरचना को धुमावदार सीढ़ी की तरह होती है।

Q4- DNA. का फुल फार्म क्या है?

Ans- डीएनए का फुल फॉर्म (डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड) है जो कभी मरता नहीं है। एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में हस्तांतरित होता है।

Q5- RNA का फुल फार्म क्या है?

Ans- RNA का फुल फॉर्म (राइबो न्यूक्लिक एसिड) है इसकी खोज फ्रेडरिक मीचेड ने की थी।

अन्य पोस्ट पढ़े-

विश्व का पहला Plant आधारित smart Air Purifier
दिमाग तेज करने के घरेलू उपाय
वरुण ग्रह क्या है
Times Higher Education Rankings 2022
भारत का सबसे ऊंचा हर्बल पार्क कहाँ है
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular